[PDF] Gurur Brahma Gurur Vishnu Lyrics – गुरुर ब्रह्मा गुरुर विष्णु लीरिक्स

SHARE THIS POST

Gurur Brahma Gurur Vishnu (गुरुर ब्रह्मा गुरुर विष्णु गुरुर देवो महेश्वरः) is not just a Sanskrit Mantra but it is devoted to Guru (Life Teachers) in Indian culture. It is commonly used to please Guru on Guru Purnima in India, if you want to keep a Whatsapp Status of Gurur Brahma Gurur Vishnu Lyrics then you can copy and save it to your WhatsApp status.

अगर आप गुरुर ब्रह्मा गुरुर विष्णु गुरुर देवो महेश्वरः को किसी को सेंड करना चाहते है या फिर whatsapp स्टेटस रखणा चाहते है तो नीचे दिये गये बॉक्स से कॉपी करे।


Text Box with Copy Button

Use the following Copy box to send and keep the Whatsapp Status of “Gurur Brahma Gurur Vishnu Lyrics” You can simply click on the Copy Button and then paste it anywhere.


Text Box with Copy Button
PDF NameGurur Brahma Gurur Vishnu PDF
No. of Pages2
PDF Size0.9 MB
LanguageSanskrit
PDF CategoryHindu PDF
Last UpdatedAugust 5, 2023
Source / CreditsN.A.
Uploaded ByPDF-TXT.COM


Gurur Brahma Gurur Vishnu Lyrics 108 Times Playing from Youtube:

click on the play button shown below to start the 108 times chanting of the Guru mantra Gurur Brahma Gurur Vishnu.


More About Guru Mantra:

This mantra is recited as a form of prayer or salutation to show respect, gratitude, and devotion to the Guru. By chanting this mantra, devotees seek the blessings of their teachers to attain wisdom, enlightenment, and spiritual growth.

यह “गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णु गुरुर्देवो महेश्वरः गुरु साक्षात्परब्रह्म तस्मै श्री गुरवे नमः” संस्कृत श्लोक या मंत्र है जो हिंदू धर्म के परंपरागत महत्व रखता है।

गुरुर ब्रह्मा गुरुर विष्णु इस मंत्र में:

  • गुरुर्ब्रह्मा: “गुरु” शिक्षक या आध्यात्मिक मार्गदर्शक को संकेत करता है। यहां कहा गया है कि शिक्षक भगवान ब्रह्मा की तरह हैं, जो हिंदू धर्म में ब्रह्मांड के सृजनकारी देवता हैं। इसका अर्थ है कि जिस तरह भगवान ब्रह्मा ब्रह्मांड को सृजित करते हैं, शिक्षक ज्ञान को सृजित करते हैं और हमें दुनिया को समझने में मदद करते हैं।
  • गुरुर्विष्णु: “गुरु” को भगवान विष्णु की तुलना में रखा गया है, जो हिंदू धर्म में संरक्षक देवता हैं। यह इसका संकेत है कि जिस तरह भगवान विष्णु ब्रह्मांड को संभालते हैं, शिक्षक ज्ञान को संभालते हैं और छात्रों को संरक्षण प्रदान करते हैं।
  • गुरुर्देवो महेश्वरः: “गुरु” को भगवान शिव के समान दृष्टिगत किया गया है, जो हिंदू धर्म में विनाशकारी देवता हैं। इसका अर्थ है कि जिस तरह भगवान शिव अज्ञानता को नष्ट करते हैं और स्पष्टता और समझ का प्रकाश फैलाते हैं, शिक्षक भी अज्ञानता को नष्ट करके छात्रों को ज्ञान में प्रकाशित करते हैं।
  • गुरु साक्षात्परब्रह्म: यह पंक्ति जोर देती है कि गुरु परब्रह्म की सीधी प्रतिस्था है। इसका अर्थ है कि शिक्षक प्राणी की अधिक विचार और भावना नहीं हैं, बल्कि वे परमात्मा की साक्षात्कार के लिए एक पवित्र साधना हैं।
  • तस्मै श्री गुरवे नमः: मंत्र समाप्त होते हुए शिष्य श्रद्धा और आभार व्यक्त करते हुए गुरु को नमन करते हैं।

गुरुर ब्रह्मा गुरुर विष्णु लीरिक्स के महत्व और उपयोग:

यह मंत्र हिंदू संस्कृति में शिक्षक के महत्व को उजागर करता है। हिंदू धर्म में, गुरु को देवताओं से भी अधिक मानते हैं। गुरु को वह व्यक्ति माना जाता है जो ज्ञान, शिक्षा और आध्यात्मिक मार्गदर्शन प्रदान करता है। वे व्यक्ति की आध्यात्मिक ज्ञान की वृद्धी मे मदत करती है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *