सजा दो घर को गुलशन Lyrics – Sajado Ghar Ko Gulshan Sa PDF

SHARE THIS POST


श्री राम भजन हिन्दू आध्यात्मिकता और संस्कृति में महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं, भगवान की स्तुति करने, दिव्यता से जुड़ने और समुदाय की भावना को व्यक्त करने के एक प्रबल माध्यम के रूप में। ये भक्तिसंगीत, सामान्यत: देवताओं या दिव्य अवतारों की प्रशंसा करने के लिए गाए जाते हैं, हिन्दू धर्मिक सभाओं और व्यक्तिगत आध्यात्मिक प्रैक्टिस का महत्वपूर्ण हिस्सा खेलते हैं।

सजा दो घर को गुलशन Lyrics:

सजा दो घर को गुलशन Lyrics Hindi

सजा दो घर को गुलशन सा, मेरे सरकार आये है |
लगे कुटिया भी दुल्हन सी, मेरे सरकार आये है ||

पखारो इनके चरणों को बहा कर प्रेम की गंगा,
बिषा दो अपनी पलको को मेरे सरकार आये है,
सजा दो घर को गुलशन सा, मेरे सरकार आये है |

सरकार आ गए है मेरे गरीब खाने में,
आया दिल को सकून उनके करीब आने में,
मुदत से प्यासी आखियो को मिला आज वो सागर,
भटका था जिसको पाने की खातिर इस ज़माने में

उमड़ आई मेरी आंखे देख कर अपने बाबा को,
हुई रोशन मेरी गलियां मेरे सरकार आये है,
सजा दो घर को गुलशन सा, मेरे सरकार आये है |

तुम आकर भी नहीं जाना मेरी इस सुनी दुनिया से,
कहु हर दम यही सबसे मेरे सरकार आये है,
सजा दो घर को गुलशन सा, मेरे सरकार आये है |


लगे कुटिया भी दुल्हन सी, मेरे सरकार आये है ||

Sajado Ghar Ko Gulshan Sa Lyrics

Saja do ghar ko gulashan sa, mere sarakaar aaye hai,
lage kutiya bhee dulhan see, mere sarakaar aaye hai.

pakhaaro inake charanon ko baha kar prem kee ganga,
bisha do apanee palako ko mere sarakaar aaye hai,
Saja do ghar ko gulashan sa, mere sarakaar aaye hai,

sarakaar aa gae hai mere gareeb khaane mein,
aaya dil ko sakoon unake kareeb aane mein,
mudat se pyaasee aakhiyo ko mila aaj vo saagar,
bhataka tha jisako paane kee khaatir is zamaane mein

umad aaee meree aankhe dekh kar apane baaba ko,
huee roshan meree galiyaan mere sarakaar aaye hai,
Saja do ghar ko gulashan sa, mere sarakaar aaye hai,

tum aakar bhee nahin jaana meree is sunee duniya se,
kahu har dam yahee sabase mere sarakaar aaye hai,
Saja do ghar ko gulashan sa, mere sarakaar aaye hai,


lage kutiya bhee dulhan see, mere sarakaar aaye hai.

Bhajans hold a significant place in Hindu spirituality and culture, serving as a potent means of expressing devotion, connecting with the divine, and fostering a sense of community. These devotional songs, typically sung in praise of deities or divine incarnations, play a central role in Hindu religious gatherings and personal spiritual practices.

सजा दो घर को गुलशन सा PDF

Sajado ghar ko gulshan sa
PDF NameSajado Ghar Ko Gulshan Sa PDF
No. of Pages2
PDF Size1 MB
LanguageHindi
PDF CategoryHindu PDF
Last UpdatedSeptember 4, 2023
Source / CreditsNA
Uploaded ByPDF-TXT.COM

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *