श्री कृष्ण भजन – Krishna Bhajan Lyrics in Hindi

श्री कृष्ण बाल रूपी भगवान सब के दुलारे है। Shri Krishna Bhajan Lyrics are those for who love Lord Krishna as a child.

जैसे बच्चों के लोरी गीत या उनको शांत करने के गीत होते है वेसे ही कृष्ण लल्ला के भजन या गवलनी मराठी मे कहते है।

I also have shared the Krishna Bhajan version in Marathi called Marathi Gavalani मराठी गवळणी मराठी मे पढ़ने के लिए नीचे दिए लिंक का इस्तेमाल करे।

कृष्ण भजन लीरिक्स – Krishna Bhajan Lyrics in Hindi:

आज मैं आप से 15 से अधिक कृष्ण भजन के लीरिक्स लिख के दूँगी जिन्हे आप अपने घर मे कृष्ण जन्म उत्सव के दौरान पढ़ सकते है।

1. हाथी घोड़ा पालकी जय कन्हैया लाल की भजन लिरिक्स

हाथी घोड़ा पालकी,जय कन्हैया लाल की।

आनंद उमंग भयो जय कन्हैया लाल की,
नंद के आनंद भयो जय यशोदा लाल की,
आनंद उमंग भयो जय कन्हैया लाल की,
नंद के आनंद भयो जय यशोदा लाल की,
हे ब्रज में आनंद भयो जय यशोदा लाल की,
ए आनंद उमंग भयो जय कन्हैया लाल की,
जय हो नंदलाल की जय यशोदा लाल की,
जय हो नंदलाल की जय यशोदा लाल की,

हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की ॥

कोटि ब्रहमाण्ड के अधिपति लाल की,
हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की,
कोटि ब्रहमाण्ड के अधिपति लाल की,
हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की,
ए गौवे चराने आयो जय यशोदा लाल की,
गोकुल मे आनंद भयो जय कन्हैया लाल की,
गैया चराने आयो जय यशोदा लाल की ॥
पूनम की चन्द्र जैसी शोभा है गोपाल की,

हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की,

पूनम की चन्द्र जैसी शोभा है गोपाल की,
हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की,
हे आनंद उमंग भयो जय कन्हैया लाल की,
गोकुल मे आनंद भयो जय कन्हैया लाल की ॥
भक्त के आनंद कंद जय यशोदा लाल की,

हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की,

भक्त के आनंद कंद जय यशोदा लाल की,
हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की,
गोकुल मे आनंद भयो जय यशोदा लाल की ॥
आनंद से बोलो सब जय हो ब्रज लाल की,

हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की,

आनंद से बोलो जय हो ब्रज लाल की,
हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की,
जय हो ब्रज लाल की जय हो प्रतीपाल की,
गोकुल मे आनंद भयो जय कन्हैया लाल की ॥

हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की,

आनंद उमंग भयो जय कन्हैया लाल की,
नंद के आनंद भयो जय यशोदा लाल की,
आनंद उमंग भयो जय कन्हैया लाल की,
नंद के आनंद भयो जय यशोदा लाल की
हे ब्रज में आनंद भयो जय यशोदा लाल की,
ए आनंद उमंग भयो जय कन्हैया लाल की,

जय हो नंदलाल की जय यशोदा लाल की,
जय हो नंदलाल की जय यशोदा लाल की,

हाथी घोड़ा पालकी, जय कन्हैया लाल की ॥

2. जय हो जय हो तेरी माँ यशोदा के लाल भजन लिरिक्स

जय हो जय हो तेरी माँ यशोदा के लाल,

ले के अवतार आना गज़ब हो गया,
त्रेता युग में थे तुम आये द्वापर में भी,
त्रेता युग में थे तुम आये द्वापर में भी,
तेरा कलयुग में आना गज़ब हो गया,
जय हो जय हो तेरी माँ यशोदा के लाल।

जब लगे पाप धरती पे बढ़ने तभी,
आके दुष्टो को तुमने संहारा तभी,
राम बनकर के मारे रावण को कभी,
प्राण कंस के हरना गज़ब हो गया,
जय हो जय हो तेरी मां यशोदा के लाल,
ले के अवतार आना गज़ब हो गया,
जय हो जय हो तेरी माँ यशोदा के लाल॥

जब लगे तुम सखाओ के संग खेलने,
आ गए देव सारे ये पल देखने,
गेंद जाकर गिरी कालियादेह में,
नाग नथकर के आना गज़ब हो गया,
जय हो जय हो तेरी मां यशोदा के लाल,
ले के अवतार आना गज़ब हो गया,
जय हो जय हो तेरी माँ यशोदा के लाल॥

आज तेरा मनाए हम जन्मोदिवस,
सबकी आँखों में तुम ही बसे हो प्रभु,
आके दीदार दे दो घडी के लिए,
तेरा पल भर को आना गज़ब हो गया,
जय हो जय हो तेरी मां यशोदा के लाल,
ले के अवतार आना गज़ब हो गया,
जय हो जय हो तेरी माँ यशोदा के लाल॥

जय हो जय हो तेरी माँ यशोदा के लाल,
ले के अवतार आना गज़ब हो गया,
त्रेता युग में थे तुम आये द्वापर में भी,
त्रेता युग में थे तुम आये द्वापर में भी,
तेरा कलयुग में आना गज़ब हो गया,

जय हो जय हो तेरी माँ यशोदा के लाल॥

3. गोकुल में जन्मा है यशोदा का लाल भजन लिरिक्स

जय हो जय हो तेरी माँ यशोदा के लाल,

बांटो रे बधाई बजाओ रे थाल,
गोकुल में जन्मा है यशोदा का लाल,
जय कन्हैया लाल की,
हाथी घोडा पालकी ॥

नंदबाबा हिरे मोती बाँट रहे है,
खुशियों से ग्वाल बाल नाच रहे है,
नंदबाबा हिरे मोती बाँट रहे है,
खुशियों से ग्वाल बाल नाच रहे है,
देते है दुहाई सब जियो सौ सौ साल,
देते है दुहाई सब जियो सौ सौ साल,
गोकूल में जन्मा है यशोदा का लाल,

जय कन्हैया लाल की,
हाथी घोडा पालकी ॥

पाप जब धरती पे बढ़ता है,
पालने में कान्हा उतरता है,
पाप जब धरती पे बढ़ता है,
पालने में कान्हा उतरता है,
आया बन करके वो कंस का काल,
आया बन करके वो कंस का काल,
गोकूल में जन्मा है यशोदा का लाल,

जय कन्हैया लाल की,
हाथी घोडा पालकी ॥

देवता भी दर्शन को आए है,
देख के ये लीला हर्षाए है,
देवता भी दर्शन को आए है,
देख के ये लीला हर्षाए है,
‘सौरभ मधुकर’ सब हो गए निहाल,
‘सौरभ मधुकर’ सब हो गए निहाल,
गोकूल में जन्मा है यशोदा का लाल,

जय कन्हैया लाल की,
हाथी घोडा पालकी ॥

बांटो रे बधाई बजाओ रे थाल,
गोकुल में जन्मा है यशोदा का लाल,

जय कन्हैया लाल की,
हाथी घोडा पालकी ॥

4. खुल गये सारे ताले वाह क्या बात हो गयी भजन लिरिक्स

खुल गये सारे ताले वाह क्या बात हो गयी,
जबसे जन्मे कन्हैया करामात हो गयी॥

श्लोक-कभी नरसिंह बनकर,
पेट हिरणाकुश का वो फाड़े,
कभी अवतार लेकर,
राम का रावण को सँहारे,
कभी श्री श्याम बन करके,
पटक कर कंस को मारे,
दसों गुरुओं का ले अवतार,
वो ही हर रुप थे धारें,
धरम का लोप होकर जब,
पापमय संसार होता है,
दुखी और दीन निर्बल का,
जब हाहाकार होता है,
प्रभु के भक्तो पर जब,
घोर अत्याचार होता है,
तभी संसार मे भगवान का, अवतार होता है॥

खुल गये सारे ताले वाह क्या बात हो गयी,
जबसे जन्मे कन्हैया करामात हो गयी,
था घनघोर अँधेरा कैसी रात हो गयी,
जबसे जन्मे कन्हैया करामात हो गयी ॥॥

था बँदिखाना जनम लिये कान्हा,
द्वापर का ज़माना पुराना,
ताले लगाना पहरे बिठाना,
वो कंस का जुलम ढाना,
उस रात का द्रश्य भयंकर था,
उस कंस को मरने का डर था,
बादल छाये उमडाये बरसात हो गयी,
जबसे जन्मे कन्हैया करामात हो गयी ॥॥

खुल गये ताले सोये थे रखवाले,
थे हाथो मे बर्छीया भाले,
दील के वो काले पड़े थे पाले,
वो काल के हवाले होने वाले,
वासुदेव ने श्याम को उठाया था,
टोकरी मे श्री श्याम को लिटाया था,
गोकुल धाये हर्शाये केसी बात हो गई,
जबसे जन्मे कन्हैया करामात हो गयी ॥॥

घटायें थी काली अजब मतवाली,
और टोकरे मे मोहन मुरारी,
सहस बनधारी करे रख्वारि,
तो जमुना ने बात विचारि,
श्याम आये है भक्तो के हितकारी,
इनके चरणों मे हो जाऊँ बलिहारी,
जाऊँ वारी हमारी मुलाकात हो गई,
जबसे जन्मे कन्हैया करामात हो गयी ॥॥

छवि नटवर की वो परमेश्वर की,
वो ईश्वर विश्वम्भर की,
ना बात बीदर की ना जमुना के सर की,
देख के झांकी गिरधर की,
वासुदेव डगर ली नंद घर की,
भक्तो ने कथा कही सांवल की,
सफल तंवर की कलम दवात हो गई,
जबसे जन्मे कन्हैया करामात हो गयी ॥॥

खुल गये सारे ताले वाह क्या बात हो गयी,
जबसे जन्मे कन्हैया करामात हो गयी,
था घनघोर अँधेरा कैसी रात हो गयी,
जबसे जन्मे कन्हैया करामात हो गयी ॥॥

5. सारी दुनिया में आनंद छायो कान्हा को जन्मदिन आयो भजन लिरिक्स

सारी दुनिया में आनंद छायो,
कान्हा को जन्मदिन आयो ॥

आई भादो की रेन कारी कारी,
आई भादो की रेन कारी कारी,
मथुरा में है जन्मे मुरारी,
मथुरा में है जन्मे मुरारी,
वसुदेव देवकी ने दर्श पायो,
कान्हा को जन्मदिन आयो,
सारी दुनियाँ में आनंद छायो,
कान्हा को जन्मदिन आयो ॥

चले लेके वसुदेव गोकुल में,
चले लेके वसुदेव गोकुल में,
कान्हा पहुंचाए नन्द महल में,
कान्हा पहुंचाए नन्द महल में,
यमुना ने श्री चरण पखारयो,
यमुना ने श्री चरण पखारयो,
कान्हा को जन्मदिन आयो,
सारी दुनियाँ में आनंद छायो,
कान्हा को जन्मदिन आयो ॥

लड्डू पेड़ा बंटे खेल खिलौना,
लड्डू पेड़ा बंटे खेल खिलौना,
झूले पलना में श्याम सलोना,
झूले पलना में श्याम सलोना,
‘चित्र-विचित्र’ को भी बुलवायो,
‘चित्र-विचित्र’ को भी बुलवायो,
कान्हा को जन्मदिन आयो,
सारी दुनियाँ में आनंद छायो,
कान्हा को जन्मदिन आयो ॥

सारी दुनिया में आनंद छायो,
कान्हा को जन्मदिन आयो ॥

6. यशोदा माँ के होयो लाल बधाई सारे भक्ता ने भजन लिरिक्स

यशोदा माँ के होयो लाल,
बधाई सारे भक्ता ने,
बधाई सारे भक्ता ने,
बाज्यो रे बाज्यो देखो थाल,
बधाई सारे भक्ता ने,
यशोदा मां के होयो लाल,
बधाई सारे भक्ता ने ॥

आज यो अँगणो धन्य हुयो है,
कृष्ण लला को जन्म हुयो है,
नाचो रे नाचो नौ नौ ताल,
बधाई सारे भक्ता ने,
यशोदा मां के होयो लाल,
बधाई सारे भक्ता ने ॥

खुशखबरी या सबने सुणावा,
झूमा रे नाचा मैं तो मौज मनावा,
गोपालो लियो अवतार,
बधाई सारे भक्ता ने,
यशोदा मां के होयो लाल,
बधाई सारे भक्ता ने ॥

महला में अंगणो अंगणा में पलणों,
पलणे में झूल रह्यो यशोदा को ललनो,
नजरा उतारा बारम्बार,
बधाई सारे भक्ता ने,
यशोदा मां के होयो लाल,
बधाई सारे भक्ता ने ॥

चालो जी चालो यशोदा माता के चाला,
बालक निरखस्या लुनराई वारा,
आवो सजावा पूजन थाल,
बधाई सारे भक्ता ने,
यशोदा मां के होयो लाल,
बधाई सारे भक्ता ने ॥

यशोदा माँ के होयो लाल,
बधाई सारे भक्ता ने,
बधाई सारे भक्ता ने,
बाज्यो रे बाज्यो देखो थाल,
बधाई सारे भक्ता ने,
यशोदा मां के होयो लाल,
बधाई सारे भक्ता ने ॥

7. रात भादो की थी छाई काली घटा जन्माष्टमी भजन लिरिक्स

रात भादो की थी,
छाई काली घटा,
कृष्ण का जन्म लेना,
गजब हो गया,
पहरे दार सभी,
सो गए जेल के,
माया भगवन की रचना,
गजब हो गया,
रात भादों की थी,
छाई काली घटा ॥

लेके मोहन को,
वसुदेव गोकुल चले,
नाम भगवन का,
ह्रदय में लेके चले,
देखे यमुना के तट पे,
है मोहन खड़े,
पैर यमुना का छुना,
गजब हो गया,
रात भादों की थी,
छाई काली घटा ॥

जाके गोकुल से,
वसुदेव लाए लली,
और मोहन को छोड़ा,
लली की जगह,
जब सुबह को खबर,
कंस ने ये सुनी,
उसका धीरज ना बंधना,
गजब हो गया,
रात भादों की थी,
छाई काली घटा ॥

दौड़ा दौड़ा गया,
वो पापी जेल में,
लेके फोरन चला,
वो उसे मारने,
ज्यूँ ही कन्या को,
ऊपर उठाने लगा,
उसको ऊपर उठाना,
गजब हो गया,
रात भादों की थी,
छाई काली घटा ॥

उसने चाहा की मारू,
शिला से इसे,
छुट के वो गई,
कन्या आकाश में,
करने आकाश वाणी,
वो कन्या लगी,
तेरा कन्या को मारना,
गजब हो गया,
रात भादो की थी,
छाई काली घटा ॥

रात भादो की थी,
छाई काली घटा,
कृष्ण का जन्म लेना,
गजब हो गया,
पहरे दार सभी,
सो गए जेल के,
माया भगवन की रचना,
गजब हो गया,
रात भादों की थी,
छाई काली घटा ॥

8. आज है आनंद बाबा नन्द के भवन में जन्माष्टमी भजन लिरिक्स

आज है आनंद बाबा नन्द के भवन में,
ऐसा ना आनंद छाया कभी त्रिभुवन में,
ऐसा ना आनंद छाया कभी त्रिभुवन में,
आज है आनंद बाबा नन्द के भवन में ॥

जान गए सब हुआ यशोदा के ललना,
झूल रहा नन्द जी के अंगना में पलना,
ढम ढम ढोल बाजे गूंजे है गगन में,
ढम ढम ढोल बाजे गूंजे है गगन में,
आज है आनंद बाबा नन्द के भवन में ॥

भोला भाला मुखड़ा है तीखी तीखी आँखे,
घुंगराले बाल काले मनमोहन आँखे,
जादू सा समाया कोई बांकी चितवन में,
जादू सा समाया कोई बांकी चितवन में,
आज है आनंद बाबा नन्द के भवन में ॥

देवता भी आए सारी देवियां भी आई है,
नन्द और यशोदा को दे रही बधाई है,
बात है जरूर कोई सांवरे ललन में,
बात है जरूर कोई सांवरे ललन में,
आज है आनंद बाबा नन्द के भवन में ॥

सारे ब्रजवासी दौड़े दौड़े चले आ रहे,
झूमे नाचे गाये सारे खुशियां मना रहे,
‘बिन्नू’ खुशियों के फूल खिले कण कण में,
‘बिन्नू’ खुशियों के फूल खिले कण कण में,
आज है आनंद बाबा नन्द के भवन में ॥

आज है आनंद बाबा नन्द के भवन में,
ऐसा ना आनंद छाया कभी त्रिभुवन में,
ऐसा ना आनंद छाया कभी त्रिभुवन में,
आज है आनंद बाबा नन्द के भवन में ॥

9. तेरी माया का ना पाया कोई पार की लीला तेरी तेरी तु ही जाने भजन लिरिक्स

तेरी माया का ना पाया कोई पार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥

तु ही जाने ओ श्यामा तु ही जाने,
सारी दुनिया के सिर जन हार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥

बंदी ग्रह मे जन्म लिया और पल भर वहाँ ना ठहरा,
टूट गये सब ताले सो गये देते थे जो पहरा,
आया अम्बर से संदेश मानो वासुदेव आदेश,
बालक लेके जाओ नंद जी के द्वार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥

बरखा प्रबल चँचला चपला कंस समान डरावे,
ऐसे मे शिशु को लेकर कोई बाहर केसे जाये,
प्रभु का सेवक शेषनाग देखो जागै उसके भाग,
उसने फण पे रोका बरखा का भार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥

वासुदेव जी हिम्मत हारे देख चढ़ी जमुना को,
चरण चूमने की अभिलाषा की हिम्गिरि ललना को,
तुने पग सुकुमार दिये पानी मे उतार,
छू के रस्ता बन गई यमुना की धार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥

नंद के घर पहुँचे यशोदा को भाग्य से सोता पाया,
कन्या लेकर शिशु छोड़ा तो हाये रे मन भर आया,
कोई हँसे चाहे रोये तु जो चाहे वही होय,
सारी बातो पे तुझे है अधिकार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥

लौ आगई राक्षसी पूतना माया जाल बिछाने,
माँ से बालक छीन के ले गई बिष भरा दुध पिलाने,
तेरी शक्ति का अनुमान कर ना पाई वो नादान,
जिस को मारा तुने उसको दिया तार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥

मात यशोदा कहती रही नटखट कान्हा चंचल से,
आज नही छोडूंगी तुझको बाँधुगि ओखल से,
मैया जितना बांधती कसती छोटी पड़ जाती थी रस्सी,
वो तो खेच खेच रस्सी को गई हार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥
डपट रही जब मैया ललना काहे माटी खायौ,
खोल के तुमने मुख को अपने तब ब्रँहान्ड दिखायौ,
मात यशोदा लीन्ही जान तुम हो साछात भगवान,
हमतो इतना जाने विष्णु के अवतार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥

किर्णाव्रत को लात पड़ी तो मटकी मे जा अटका,
दैत्य को दुध दही से नहला के चूल्हे मे दे पटका,
फ़िर भी ना माना बदमाश प्रभु को ले पहुँचा आकाश,
है वही उसका किया रे संहार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥

काकासुर की पकड़ के गर्दन जब तुने था फेंका,
गिरता पड़ता असुर वो सीधा कंस सभा मे पहुँचा,
बोला कंस से वो राजन बालक नही है वो साधारण,
मुझको लगता वो हरी का अवतार,
तेरी माया का ना पाया कोई पार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥

काम ना चलता था जहाँ पे धनुष से और  बाणों से,
तुमने जीती वो बाजी भी मुरली की तानो से,
तु ही हार तु ही जीत तु ही सुर तु हि संगीत,
तु ही पायल तु ही पायल की झंकार,
तेरी माया का ना पाया कोई पार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥

भक्त हूँ मै और तु है भगवन मै नर तु नारायण,
क्या समझूंगा माया तेरी मै नर हूँ साधारण,
भगवन मै मूरख नादान तुमको तिहुं लोक का ज्ञान,
तु ही कण कण मे समाया निराकार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥

अधरों पे सोहे बाँसुरीया काँधे कावल काली,
सांवली सुरतीया पर मै तो बल बल जाऊ सांवरियां,
तु है नंद बाबा की जान तेरी जय हो कृष्ण भगवान,
तेरे गुण गाये ये सारा संसार,
तेरी माया का ना पाया कोई पार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥

नैनो मे करुणा का काजल बाजे छम छम पायल,
शीश पे मोर मुकुट सोहे और कान मे सोहे कुंडल,
कान्हा तेरा रुप सलोना जेसे चमके कोई सोना,
सबके मन पे मोहन तेरा अधिकार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥

मधुबन को करते है सुगंधित बाल तेरे घुंघराले,
लेहर लेहर तेरे रुप की प्यासी मोहन मुरली वाले,
तुझ पे तन मन वारे राधा तेरी दरश दीवानी मीरा,
चंदा तारे करे तेरा शृंगार,
तेरी माया का ना पाया कोई पार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥

मथुरा मे है तु ही मोहन तु ही वृंदावन मे,
तु ही कुंज गलीन को वासी तु ही गोवर्धन मे,
तु ही ठुमके नंद भवन मे तु ही चमके नील गगन मे,
करता रास तु ही जमुना के पार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥
तेरी माया का ना पाया कोई पार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥
तु ही जाने ओ श्यामा तु ही जाने,
सारी दुनिया के सिर जन हार,
की लीला तेरी तु ही जाने॥

10. जैल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया जया किशोरी जी भजन लिरिक्स

जैल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया,
सबको बहुत बधाई है,
बहुत बधाई है,
सबको बहुत बधाई है,
जैल में प्रकटे कृष्ण कन्हैंया,
सबको बहुत बधाई है ॥

मात-पिता को सब समझाया,
मैं हू लीला करने आया,
जैसा कहु वैसा ही करना,
जगत भलाई है,
जैल में प्रकटे कृष्ण कन्हैंया,
सबको बहुत बधाई है ॥

कैसा किया है जादू कमाल,
छोटे बन गये लड्डू गोपाल,
देखो अंगूठा चूसते,
मोहनी सूरत बनाई है,
जैल में प्रकटे कृष्ण कन्हैंया,
सबको बहुत बधाई है ॥

बारिश पड़ रही मूसलाधार,
शेष नाग है सेवा दार,
यमूना जी की बाढ़,
ना जाने कहा समाई है,
जैल में प्रकटे कृष्ण कन्हैंया,
सबको बहुत बधाई है ॥

जैल में प्रकटे कृष्ण कन्हैंया,
सबको बहुत बधाई है,
बहुत बधाई है,
सबको बहुत बधाई है,
जैल में प्रकटे कृष्ण कन्हैया,
सबको बहुत बधाई है ॥

11. जन्म उत्सव आपका हम आज मनाएंगे भजन लिरिक्स

जन्म उत्सव आपका हम,
आज मनाएंगे,
झूमेंगे नाचेंगे हम,
खुशियां मनाएंगे,
की हैप्पी रिटर्न्स ऑफ़ द डे,
कन्हैया हैप्पी बर्थडे,
की हैप्पी रिटर्न्स ऑफ़ द डे,
कन्हैया हैप्पी बर्थडे ॥

चंदन की चौकी पे हम,
कान्हा तुम्हे बिठाएंगे,
गंगा के पावन जल से,
कान्हा तुम्हे नहलाएंगे,
भावो के पुष्पों से हम,
कान्हा तुम्हे सजाएंगे,
नजर कहीं ना लग जाए,
काला टिका लगाएंगे,
श्रृंगार बड़ा ही पावन है,
लगता ये बड़ा मनभावन है,
केसरिया बागा तुम्हे,
कान्हा पहनाएंगे।

झूमेंगे नाचेंगे हम,
खुशियां मनाएंगे,
की हैप्पी रिटर्न्स ऑफ़ द डे,
कन्हैया हैप्पी बर्थडे,
की हैप्पी रिटर्न्स ऑफ़ द डे,
कन्हैया हैप्पी बर्थडे ॥

रंगो और गुब्बारों से,
हम दरबार सजाएंगे,
मेवे और मलाई का,
कान्हा केक बनाएंगे,
चॉकलेट टॉफियां लाएंगे,
खुशियों के दीप जलाएंगे,
छोटे छोटे हाथों से,
तुम्हे केक खिलाएंगे।

झूमेंगे नाचेंगे हम,
खुशियां मनाएंगे,
की हैप्पी रिटर्न्स ऑफ़ द डे,
कन्हैया हैप्पी बर्थडे,
की हैप्पी रिटर्न्स ऑफ़ द डे,
कन्हैया हैप्पी बर्थडे ॥

स्वर्ग से देवी देव भी,
सेलिब्रेशन में आए है,
अपने संग में सांवरे,
गिफ्ट पैक भी लाए है,
उपहार प्रेम का जो लाए,
कान्हा के मन को वो भाए,
भजनो का एक पुष्प ‘मोहित’,
चरणों में चढ़ाएंगे।

झूमेंगे नाचेंगे हम,
खुशियां मनाएंगे,
की हैप्पी रिटर्न्स ऑफ़ द डे,
कन्हैया हैप्पी बर्थडे,
की हैप्पी रिटर्न्स ऑफ़ द डे,
कन्हैया हैप्पी बर्थडे ॥

जन्म उत्सव आपका हम,
आज मनाएंगे,
झूमेंगे नाचेंगे हम,
खुशियां मनाएंगे,
की हैप्पी रिटर्न्स ऑफ़ द डे,
कन्हैया हैप्पी बर्थडे,
की हैप्पी रिटर्न्स ऑफ़ द डे,
कन्हैया हैप्पी बर्थडे ॥

12. कृष्ण घर नन्द के जन्मे दुलारा हो तो ऐसा हो भजन लिरिक्स

कृष्ण घर नन्द के जन्मे,
दुलारा हो तो ऐसा हो,
लोग दर्शन चले आये,
सितारा हो तो ऐसा हो ॥

बकासुर को मसल डाला,
पूतना जान से मारी,
पूतना जान से मारी,
कंस को केश से खिंचा,
खिलाडी हो तो ऐसा हो,
श्री कृष्ण घर नन्द के जन्मे,
सितारा हो तो ऐसा हो ॥

कूद पानी के अंदर से,
नाग को नाथ के लाये,
चरण फण फण पे देकर के,
नचारा हो तो ऐसा हो,
श्री कृष्ण घर नन्द के जन्मे,
सितारा हो तो ऐसा हो ॥

तीर जमुना के जाकर के,
बजाई बांसुरी मोहन,
चली घर छोड़ बृजनारी,
बजाना हो तो ऐसा हो,
श्री कृष्ण घर नन्द के आए,
सितारा हो तो ऐसा हो ॥

रचाई रास कुंजन में,
मनोहर रूप बनकर के,
देव दर्शन चले आये,
दीदारा हो तो ऐसा हो,
श्री कृष्ण घर नन्द के जन्मे,
सितारा हो तो ऐसा हो ॥

गए जब छोड़ गोकुल को,
नहीं फिर लौट कर आये,
सखी रोती रही बन में,
किनारा हो तो ऐसा हो,
श्री कृष्ण घर नन्द के आए,
सितारा हो तो ऐसा हो ॥

कौरव पांडव रण में,
जीत अर्जुन की करवाये,
बचाई लाज द्रोपती की,
सहारा हो तो ऐसा हो,
श्री कृष्ण घर नन्द के जन्मे,
सितारा हो तो ऐसा हो ॥

पूरी द्वारावती जाकर,
महल सोने के बनवाये,
हजारो रानिया ब्याही,
पसारा हो तो ऐसा हो,
श्री कृष्ण घर नन्द के आए,
सितारा हो तो ऐसा हो ॥

उतारा भार भूमि का,
सिधारे धाम अपने को,
वो ब्रम्हानंद दुनिया से,
नियारा हो तो ऐसा हो,
श्री कृष्ण घर नन्द के आए,
सितारा हो तो ऐसा हो ॥

कृष्ण घर नन्द के जन्मे,
दुलारा हो तो ऐसा हो,
करे सब प्रेम से दर्शन,
सितारा हो तो ऐसा हो ॥

13. मैया बधाई है बधाई है जन्माष्टमी भजन लिरिक्स

मैया बधाई है बधाई है,
बाबा बधाई है बधाई है,
ब्रज में ये कैसी ख़ुशी छाई है,
ब्रज में ये कैसी ख़ुशी छाई है,
मैया बधाईं है बधाईं है,
बाबा बधाई है बधाई है ॥

घर घर में कैसी ख़ुशी छाई है,
श्याम दीवाने गावे बधाई है,
घर घर में कैसी ख़ुशी छाई है,
श्याम दीवाने गावे बधाई है,
मन में है अति ख़ुशी छाई है,
मैया बधाईं है बधाईं है,
बाबा बधाई है बधाई है ॥

भक्तो ने कैसी धूम मचाई है,
द्वारे पे बाजे शहनाई है,
भक्तो ने कैसी धूम मचाई है,
द्वारे पे बाजे शहनाई है,
बाबा ने सम्पती लुटाई है,
मैया ने बधाई बंटवाई है,
मैया बधाईं है बधाईं है,
बाबा बधाई है बधाई है ॥

मैया बधाईं है बधाईं है,
बाबा बधाई है बधाई है,
ब्रज में ये कैसी ख़ुशी छाई है,
ब्रज में ये कैसी ख़ुशी छाई है,
मैया बधाईं है बधाईं है,
बाबा बधाई है बधाई है ॥

14. जन्मदिन है लड्डू गोपाल का भजन लिरिक्स

बाजे यशोदा के अंगना बधाई,
आये कन्हाई जी आये कन्हाई ।

बाजे यशोदा के अंगना बधाई,
आये कन्हाई जी आये कन्हाई ॥

मक्खन वाला केक कटेगा,
पूरे वृन्दावन में बटेगा,
मक्खन वाला केक कटेगा,
मक्खन वाला केक कटेगा,
पूरे वृन्दावन में बटेगा ।

जहाँ चरण कान्हा के पडेंगे,
पुन्य बढेगा पाप घटेगा,
करो स्वागत यशोदा के लाल का,
जन्मदिन है लड्डू गोपाल का ॥

जन्मदिन है लड्डू गोपाल का
जन्मदिन है लड्डू गोपाल का
ओ हो हो जन्मदिन है लड्डू गोपाल का ॥
चंदा से मुखड़े पे मुस्कान देखो,
मुस्कान देखो जी मुस्कान देखो,
पलने में ललना की तुम शान देखो,
मुस्कान देखो जी मुस्कान देखो,
चंदा से मुखड़े पे मुस्कान देखो,
पलने में ललना की तुम शान देखो,
इक पल में सौ बार ली है बालाएं ।

कन्हैया में मैया की है जान देखो,
कन्हैया में मैया की है जान देखो,
शुभ घड़ी है ये दिन है कमल का,
जन्मदिन है लड्डू गोपाल का ॥

जन्मदिन है लड्डू गोपाल का
जन्मदिन है लड्डू गोपाल का
ओ हो हो जन्मदिन है लड्डू गोपाल का ॥

बाजे यशोदा के अंगना बधाई,
आये कन्हाई जी आये कन्हाई ॥

आनंद उत्सव है नन्द जी के द्वारे,
नन्द जी के द्वारे हाँ नन्द जी के द्वारे,
दर्शन कतारों में करते हैं सारे,
नन्द जी के द्वारे हाँ नन्द जी के द्वारे,
आनंद उत्सव है नन्द जी के द्वारे,
दर्शन कतारों में करते हैं सारे,
हवाओ में बहते हैं बंशी के धारे,
पता न लगे कौन किसको पुकारे,
पता न लगे कौन किसको पुकारे ।

शोर है ढोल ताशों की ताल का,
जन्मदिन है लड्डू गोपाल का ॥

जन्मदिन है लड्डू गोपाल का
जन्मदिन है लड्डू गोपाल का
ओ हो हो जन्मदिन है लड्डू गोपाल का ॥

जन्मदिन है लड्डू गोपाल का
जन्मदिन है लड्डू गोपाल का
ओ हो हो जन्मदिन है लड्डू गोपाल का ॥

बाजे यशोदा के अंगना बधाई,
आये कन्हाई जी आये कन्हाई ।
बाजे यशोदा के अंगना बधाई,
आये कन्हाई जी आये कन्हाई ॥

15. लल्ला की सुन के मै आयी यशोदा मैया देदो बधाई भजन लिरिक्स

लल्ला की सुन के मैं आई,
यशोदा मैया दे दे बधाई,
कान्हाँ की सुन के मै आई,
यशोदा मैया दे दे बधाई,
लाला जनम सुन आई,
यशोदा मैया दे दो बधाई,
दे दे बधाई, मैया दे दे बधाई,
दे दे बधाई, मैया दे दे बधाई,
लल्ला की सुन के मैं आई,
यशोदा मैया दे दे बधाई ॥

चोली भी दे दे मैया,
चुनरी भी दे दे,
लहंगे की दे दे सिलाई,
यशोदा मैया दे दे बधाई,
लल्ला की सुन के मैं आई,
यशोदा मैया दे दे बधाई ॥

हार भी दे दे मैया, 
कँगना भी दे दे,
नथिनी की, दे दे कढ़ाई,
यशोदा मैया दे दे बधाई,
लल्ला की सुन के मैं आई,
यशोदा मैया दे दे बधाई ॥

हीरे भी दे दे मैया, 
मोती भी दे दे,
कण्ठे की दे दे पुआई,
यशोदा मैया दे दे बधाई,
लल्ला की सुन के मैं आई,
यशोदा मैया दे दे बधाई ॥

सोना भी दे दे मैया, 
चाँदी भी दे दे,
झुमके की दे दे घड़ाई,
यशोदा मैया दे दे बधाई,
लल्ला की सुन के मैं आई,
यशोदा मैया दे दे बधाई ॥

चन्द्र सखी भज, 
बाल कृष्ण छवि,
नित नित जाऊँ बलिहारी,
यशोदा मैया दे दे बधाई,
लल्ला की सुन के मैं आई,
यशोदा मैया दे दे बधाई ॥

युग युग जीए तेरो,
बाँके बिहारी,
भक्तों की होवे मन चाही,
यशोदा मैया दे दे बधाई
यशोदा मैया दे दे बधाई,
लल्ला की सुन के मैं आई,
यशोदा मैया दे दे बधाई ॥

16. कान्हा जन्मे आधी रात भादो की रतिया लिरिक्स

कान्हा जन्मे आधी रात भादो की रतिया,
भादो की रतिया काली काली रतिया,
कान्हा जन्मे आधी रात भादो की रतिया…..

इनके चरुवे चराएंगी वही सखियां,
जिनके लंबे लंबे बाल कटीली अखियां,
कान्हा जन्मे आधी रात भादो की रतिया…..

इनको पलना झूलाएगी वही सखियां,
जिनके गोरे गोरे हाथ हाथों में चूड़ियां,
कान्हा जन्मे आधी रात भादो की रतिया…..

इनके बधाई गाएंगी वही सखियां,
जिनके छोटे छोटे पांव बजनी सी पायलिया,
कान्हा जन्मे आधी रात भादो की रतिया…..

इनको लोरी सुनाएंगी वही मैया,
जिनका यशोमती नाम नंद जी की रनियां,
कान्हा जन्मे आधी रात भादो की रतिया…..

17. सारे मोहल्ले में हल्ला हो गया लिरिक्स

सारे मोहल्ले में हल्ला हो गया,
मैया यशोदा के लल्ला हो गया,
सारे मोहल्ले में हल्ला हो गया,
मैया यशोदा के लल्ला हो गया ॥

श्यामल रूप नैन कजरारे,
वाले हैं उनके घुंघरू वाले,
होठों पर लाली जय हो,
कानों में बाली जय हो,
पैरों में पायल जय हो,
सब हो गये घायल जय हो,
इसका दीवाना,
यह मोहल्ला हो गया,
मैया यशोदा के लल्ला हो गया,
सारे मोहल्ले में हल्ला हो गया,
मैया यशोदा के लल्ला हो गया ॥

आज सजी है नंद की हवेली,
आई है सखियां संग लेकर सहेली,
सभी सुध बुध खोये जय हो,
खुशियों में खोये जय हो,
सब काम है छोड़े जय हो,
नंद के घर दौड़े जय हो,
आज सारा गोकुल में,
हल्ला हो गया,
मैया यशोदा के लल्ला हो गया,
सारे मोहल्ले में हल्ला हो गया,
मैया यशोदा के लल्ला हो गया ॥

चांदी का झूला और,
रेशम की डोरी,
मैया यशोदा सुनावे है लोरी,
कोई थाली बजावे जय हो,
कोई मंगल गावे जय हो,
सब लोग लुगाई जय हो,
पाते हैं बधाई जय हो,
इतनी मिली सौगात,
छोटा पल्ला हो गया,
मैया यशोदा के लल्ला हो गया,
सारे मोहल्ले में हल्ला हो गया,
मैया यशोदा के लल्ला हो गया ॥

Also Read This:


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *